अलहसनैन इस्लामी नेटवर्क

फ़ातेमा ज़हरा(अ)

मुसहफ़े फ़ातेमा ज़हरा सलामुल्लाहे अलैहा

मुसहफ़े फ़ातेमा ज़हरा सलामुल्लाहे अलैहा

अहलेबैत (अ) से नक़्ल होने वाली रिवायतों में से कुछ रिवायतों में हज़रत फ़ातेमा ज़हरा सलामुल्लाहे अलैहा के मुसहफ़ की बात कही गई

अधिक पढ़ें

हज़रत मोहसिन की शहादत

हज़रत मोहसिन की शहादत हज़रत मोहसिन की शहादत कैसे हुई। शिया और सुन्नी किताबो से...

अधिक पढ़ें

हज़रत फ़ातेमा ज़हरा का मरसिया

हज़रत फ़ातेमा ज़हरा का मरसिया जैसे ही पैग़म्बरे इस्लाम ने इस संसार से अपनी आखें मूंदी, मुसीबतें आना आरम्भ हो गईं, और इन मुसीबतों का सिलसिला एक के बाद एक बढ़ता ही चला  

अधिक पढ़ें

फ़िदक के छीने जाने पर फ़ातेमा ज़हरा (स) की प्रतिक्रिया

फ़िदक के छीने जाने पर फ़ातेमा ज़हरा (स) की प्रतिक्रिया हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) ने कहा कि फ़िदक मुझे वापस दे दो, रसूल ने फ़िदक मुझे दिया था।

अधिक पढ़ें

हज़रत फ़ातेमा ज़हरा उम्महातुल मोमिनीन की नज़र में

हज़रत फ़ातेमा ज़हरा उम्महातुल मोमिनीन की नज़र में ख़ुदावन्दे आलम ने बज़्मे इंसानी के अंदर हज़रत मुहम्मद मुस्तफ़ा सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही वसल्लम से बेहतर किसी को ख़ल्क नहीं फरमाया।  

अधिक पढ़ें

ख़ुतब ए फ़िदक

ख़ुतब ए फ़िदक जिस दिन तक आप जीवित थे मेरी हिमायत और समर्थन करने वाला था और मैं सुकून के साथ आती जाती थी और आप मेरे बाज़ू और सहायक थे,

अधिक पढ़ें

सुन्नियों की पुस्तकें और फ़ातेमा ज़हरा (स) की महानता

सुन्नियों की पुस्तकें और फ़ातेमा ज़हरा (स) की महानता निःसंदेह फ़ातेमा मेरा टुकड़ा है, जो चीज़ उसे परेशान करती है वह मुझे परेशान करती है जो उसे पीड़ा देती है वह मुझे पीड़ा देती है।

अधिक पढ़ें

हज़रत फ़ातेमा की शहादत

हज़रत फ़ातेमा की शहादत हज़रत फ़ातेमा ज़हरा के व्यक्तित्व ऐसे गुणों से सुसज्जित हैं कि कोई और महिला उनके स्तर तक पहुंचती ही नहीं।    

अधिक पढ़ें

जनाबे फ़ातेमा ज़हरा के दफ़्न के मौक़े पर इमाम अली का खुत्बा

जनाबे फ़ातेमा ज़हरा के दफ़्न के मौक़े पर इमाम अली का खुत्बा मेरी तरफ़ से और आपकी उस दुख़्तर की तरफ़ से जो आपके जवार में नाज़िल हो रही है और बहुत जल्दी आप से मुलहक़ हो रही है।

अधिक पढ़ें

अल्लाह तआला ने हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स. को हमारे लिए आइडियल क्यूं बनाया है?

 अल्लाह तआला ने हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स. को हमारे लिए आइडियल क्यूं बनाया है? आपने हज़रत अली अ. से वसीयत की थी कि आपको रात में ग़ुस्ल दें, रात में कफ़न पहनाएं और रात ही में दफ़्न करें और जिन लोगों नें उन्हें दुख पहुँचाया था उनको जनाज़े में (अंतिम संस्कार) न आने दें  

अधिक पढ़ें

हज़रते ज़हरा स0 का अक़्द और उसके इम्तेयाज़ात

हज़रते ज़हरा स0 का अक़्द और उसके इम्तेयाज़ात बग़ैर औरत की मरज़ी के शादी करना ज़ुल्म है।

अधिक पढ़ें

हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) के फ़ज़ायल

हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) के फ़ज़ायल हज़रत फ़ातेमा ज़हरा(स) उन हज़रात में से हैं जिनकी मवद्दत और मुहब्बत तमाम मुसलमानों पर वाजिब की गई है

अधिक पढ़ें

हज़रत फ़ातिमा ज़हरा सलामुल्लाह अलैहा का जीवन परिचय

हज़रत फ़ातिमा ज़हरा सलामुल्लाह अलैहा का जीवन परिचय आप का नाम फ़ातिमा व आपकी उपाधियां ज़हरा ,सिद्दीक़ा, ताहिरा, ज़ाकिरा, राज़िया, मरज़िया,मुहद्देसा व बतूल हैं।

अधिक पढ़ें

विलायत के आसमान पर हिदायत का तारा

विलायत के आसमान पर हिदायत का तारा फ़ातिमा ज़हरा मोहद्देसा थीं। यानी फ़रिश्ते उनके पास आते थे, आपके साथ बातें करते थे। किसी भी शिया या सुन्नी नें इस बात को ग़लत नहीं बताया है क्योंकि दोनों के उल्मा इस बात को मानते हैं

अधिक पढ़ें

हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) की इबादतों पर हक़्क़ानीयत को नाज़ है

हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) की इबादतों पर हक़्क़ानीयत को नाज़ है जैसे जैसे हज़रत फ़ातेमा (स) बड़ी होती गई उन के औसाफ़ व कमालात नुमायां होते चले गये    

अधिक पढ़ें

रसूले इस्लाम स.अ. ने हज़रते ज़हरा अ. को उम्मे अबीहा (अपने बाप की माँ) क्यूं कहा?

 रसूले इस्लाम स.अ. ने हज़रते ज़हरा अ. को उम्मे अबीहा (अपने बाप की माँ) क्यूं कहा? पैग़म्बरे इस्लाम स.अ ने अपनी बेटी से मोहब्बत को ज़ाहिर करते हुए अपनी बेटी के लिए कहा कि तुम अपने बाप की मां हो।

अधिक पढ़ें

हज़रत अली (अ.स.) की नज़र में हज़रते ज़हरा

हज़रत अली (अ.स.) की नज़र में हज़रते ज़हरा  इमाम ने जवाब दिया, फातिमा अल्लाह की इताअत में सबसे अच्छी मददगार हैं।    

अधिक पढ़ें

जनाबे ज़हरा(स)की सवानेहे हयात

जनाबे ज़हरा(स)की सवानेहे हयात उन की शख़्सियत पर रिसालत को नाज़ है और मुख़्तसर यह कि उन पर शीईयत को नाज़ है।

अधिक पढ़ें

फ़िदक और हज़रत फ़ातेमा ज़हरा

फ़िदक और हज़रत फ़ातेमा ज़हरा इस बहस में सबसे पहली बात या प्रश्न यह है कि फ़िदक क्या है? और क्यों फ़िदक का मसला महत्वपूर्ण है? यह फ़िदक मीरास था या एक उपहार था? जिसमें पैग़म्बर को आदेश दिया गया था कि फ़ातेमा को दिया जाए।    

अधिक पढ़ें

आपका कमेंन्टस

यूज़र कमेंन्टस

कमेन्ट्स नही है
*
*

अलहसनैन इस्लामी नेटवर्क