अलहसनैन इस्लामी नेटवर्क

दुआ

असर की नमाज़ की दुआऐ

असर की नमाज़ की दुआऐ

 खुदाया! हमारे पास जो तेरी नेमत है वो तेरी तरफ से है,

अधिक पढ़ें

ज़ोहर की नमाज़ की दुआऐ

ज़ोहर की नमाज़ की दुआऐ ऐ मेरे माबूद, मेरे ज़िम्मे कोई ऐसा गुनाह न छोड़ जिसे तू माफ़ न करे,

अधिक पढ़ें

फ़ज्र के नमाज़ के बाद की दुआऐ

फ़ज्र के नमाज़ के बाद की दुआऐ ऐ माबूद! मोहम्मद व आले मोहम्मद पर रहमत नाजिल फ़रमा और हक में इख्तालाफ़ के मकाम पर अपने हुक्म से मुझे हिदायत ...

अधिक पढ़ें

दुआ - उल - अ'दीला

दुआ - उल - अ'दीला फ़ख़रुल मोहक़'क़े'क़ीन ने फ़रमाया के जो मौत के वक़्त ईस ख़तरे से महफूज़ रहना चाहता है इसे ईमान और उसूले दीन की दलीलें ज़ेहन में रखना चाहिए

अधिक पढ़ें

दुआए अहद

दुआए अहद जो शख्स चालीस रोज़ तक हर सुबह इस दुआए अहद तो पढ़े तो वोह इमाम (अ:त:फ) के मददगारों में से होगा

अधिक पढ़ें

हदीसे किसा

हदीसे किसा हदीसे किसा एक विनीत वर्णन है, जो एक परम्परा भी है और एक घटना का विवरण भी, यह उत्कृष्टता का एक भी वर्णन है और समृद्धि का कारण भी

अधिक पढ़ें

दुआए तवस्सुल

दुआए तवस्सुल इमाम हसन-बिन-अल-अस्करी (अ:स) ने यह दुआ अबू मुहम्मद के आग्रह पर उस समय लिखी जब उन्हों ने इमाम (अ:स) से सही तरीक़े से सलवात पढ़ने के बारे में पूछा!

अधिक पढ़ें

दुआए फरज 2

दुआए फरज 2 अगर कोई शख्स बिना वजह  क़ैदी या बंदी बना लिया गया है, अगर इस दुआ को पढेगा तो उसे तुरंत रिहाई मिलेगी!

अधिक पढ़ें

दुआ ऐ सहर

दुआ ऐ सहर ऐ गमो अन्दोह मे मेरी पनाहगाह

अधिक पढ़ें

दुआ-ए-सनमी क़ुरैश

 दुआ-ए-सनमी क़ुरैश फ़रमाया क़सम है उस ख़ुदा की जिसके क़ब्ज़ा-ए-क़ुदरत में मुहम्मद (स.अ.) और अली (अ.स.) की जान है ,जो शख़्स इस दुआ को पढ़गा उसको ऐसा अज्र नसीब होगा कि गोया उसने ऑहज़रत सलल्लाहो अलैहे व आलेही वसल्लम के साथ जंगे ओहद और जंगे तबूक में जिहाद किया हो और हज़रत के सामने शहीद हुआ हो ,नीज़ उसको ऐसो 100हज व उमरे का सवाब मिलेगा जो हज़रत के साथ बजा लाये गये हों और हज़ार महीनों के रोज़ों का सवाब भी हासिल होगा और क़यामत के दिन उसका हश्र जनाबे रिसालतमआब (स.अ.) और आईम्मा-ए-मासूमीन (अ.स.) के साथ होगा और

अधिक पढ़ें

दुआ-ऐ-मशलूल

दुआ-ऐ-मशलूल सैय्यद इब्ने तावूस ने अपनी किताब मह्जूले-दावत में हज़रत इमाम हुसैन (अ:स) से रिवायत की है के आप फरमाते हैं की एक शब् मै अपने पदरे बुज़ुर्गवार आली मश्दार हज़रत अली इब्ने अबी तालिब (अ:स) के हमराह तावाफे खाने काबा में था और वो शब् बहुत तारीक थी और कोई मशगूले तवाफ़ न था।

अधिक पढ़ें

वुज़ू के वक़्त की दुआऐ

वुज़ू के वक़्त की दुआऐ   270 वुज़ू करने वाले इंसान की नज़र जब पानी पर पड़े तो यह दुआ पढ़े- बिस्मिल्लाहि व बिल्लाहि व अलहम्दु लिल्लाहि अल्लज़ी जअला अल माआ तहूरन व लम यजअलहु नजसन।

अधिक पढ़ें

दुआए कुमैल

दुआए कुमैल  इमाम अली (अस) ने कुमैल को सलाह दी की इस दुआ को हर जुमा के पहले वाली रात (शबे जुमा) को, या महीने में एक बार, या साल में एक बार या ज़िंदगी में एक बार पढो ताकी अल्लाह तुम्हे बुराईओं और

अधिक पढ़ें

दुआ फरज

दुआ फरज अल्ला हुम्मा कुन ले-वली'य्येकल हुज्जत

अधिक पढ़ें

जौशन सग़ीर का तर्जमा

जौशन सग़ीर का तर्जमा

अधिक पढ़ें

आयतल कुर्सी का तर्जमा

आयतल कुर्सी का तर्जमा

अधिक पढ़ें

माहे रजब की दुआऐं

माहे रजब की दुआऐं

अधिक पढ़ें

आपका कमेंन्टस

यूज़र कमेंन्टस

कमेन्ट्स नही है
*
*

अलहसनैन इस्लामी नेटवर्क