अलहसनैन इस्लामी नेटवर्क

विभिन्न

हज़रत अब्बास का ख़ुत्बा

हज़रत अब्बास का ख़ुत्बा

एक रिवायत में आया है कि हज़रत अब्बास (अ) ने मक्का शहर में सन 60 हिजरी में हुसैनी क़ाफ़िले के मक्के से कूफ़े की तरफ़ कूच करने से पहले एक ख़ुत्बा दिया आठ ज़िलहिज्जा सन साठ हिजरी यानी हुसैनी काफ़िले के कर्बला की तरफ़ कूच करने से ठीक एक दिन पहले क़मरे बनी हाशिम हज़रत अबुल फ़ज़लिल अब्बास (अ) ने ख़ान –ए- काबा की छत पर जाकर एक बहुत ही भावुक और क्रांतिकारी ख़ुत्बा दिया।

अधिक पढ़ें

“अलयहूद”

“अलयहूद” वाय हो उन लोगो पर जो अपने हाथो से किताब लिख कर यह कहते हैं कि ये ख़ुदा कि तरफ से है,ताकि इसे थोडे दाम मे बेच दें। इनके लिए इस तहरीर पर अज़ाब है और इसकी कमाई पर भी।

अधिक पढ़ें

साम्राज्यवादी शक्तियां और वहाबियों का सरगना।

 साम्राज्यवादी शक्तियां और वहाबियों का सरगना। अल्लाह के घर काबे को मिटाना यह कहते हुए कि यह केवल बुतों की पूजा की तरह है, और लोगों को हज से रोकना, फिर चाहे रास्ते में छिप कर उनके काफ़िले पर हमला कर के ही क्यों न हो।

अधिक पढ़ें

वहाबियत का जन्म कब हुआ?

वहाबियत का जन्म कब हुआ? वहाबियों के अधिकतर विचार क़ुर्आन और पैग़म्बर की हदीस के विपरीत हैं, कुछ विचारों को आप लोगों के सामने लिखा जा रहा है।

अधिक पढ़ें

जन्नतुल बक़ी

जन्नतुल बक़ी जन्नतुल बक़ीअ तारीख़े इस्लाम के जुमला मुहिम आसार में से एक है, जिसे वहाबियों ने 8 शव्वाल 1343 मुताबिक़ मई 1925 को शहीद करके दूसरी कर्बला की दास्तान को लिख कर अपने यज़ीदी किरदार और अक़ीदे का वाज़ेह तौर पर इज़हार किया है।  

अधिक पढ़ें

जन्नतुल बकी मे दफ्न शख्सियात

जन्नतुल बकी मे दफ्न शख्सियात

अधिक पढ़ें

शिया और पैग़म्बरे इस्लाम स.अ. की सुन्नत

 शिया और पैग़म्बरे इस्लाम स.अ. की सुन्नत जब तुम तक कोई हदीस पहुँचे और तुम्हें क़ुरआन या पैग़म्बर स.अ की हदीस से उसका प्रमाण मिल जाए तो उसे स्वीकार कर लो वरना बेहतर यही है कि उसकी निस्बत उसी की ओर दी जाए जिसने उसे तुमसे नक़्ल किया है

अधिक पढ़ें

फ़ात्मी ख़ुल्फ़ा

 फ़ात्मी ख़ुल्फ़ा मुवर्रिख़ एहसान उल्लाह अब्बासी अपनी तारीख़े इस्लाम के पृष्ठ 422 में लिखते हैं कि तीसरी सदी हिजरी के आख़ीर में एक बड़ी ज़बर दस्त सलतनत अलवियों की मग़रिब में क़ायम हुई।

अधिक पढ़ें

इस्लाम पर महापुरूषों के विचार

इस्लाम पर महापुरूषों के विचार जहां तक हम जानते हैं कि किसी धर्म ने न्याय को इतनी महानता नहीं दी जितनी इस्लाम ने दी है।

अधिक पढ़ें

आखिर एक मशहूर वैज्ञानिक मुसलमान कैसे हो गया ?

आखिर एक मशहूर वैज्ञानिक मुसलमान कैसे हो गया ? क़ुरआन की सत्यता को सिद्ध करने के लिए क़ुरआन का यह प्रमाण भी काफी है कि मुहम्मद सल्ल0 के एक संकेत पर चाँद दो टूकड़े हो गए।

अधिक पढ़ें

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-14

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-14 पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम की क़ब्र को छूने और चूमने को अनेकेश्वरवाद बताना भी वहाबियत के भ्रष्ट विचारों एवं बिदअतों में से एक है।

अधिक पढ़ें

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-13

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-13 सुन्नी मुसलमानों ने भी शहीदों और अपनी सम्मानीय हस्तियों की क़ब्रों पर गुंम्बद का निर्माण करवाया तथा उनके दर्शन के लिए जाते हैं।

अधिक पढ़ें

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-12

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-12 सलफी एवं वहाबी पंथ की बुनियाद रखने वाला इब्ने तय्मिया पैग़म्बरे इस्लाम की पावन समाधि के दर्शन को हराम और क़ब्र का दर्शन करने के इरादे से की जाने वाली यात्रा को भी हराम समझता है।

अधिक पढ़ें

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-11

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-11 कौन है जो यह न जानता हो कि पैग़म्बर और ईश्वर के प्रिय बंदे ईश्वर के मार्ग में शहीद होने वाले उन लोगों की भांति हैं जिनके बारे में क़ुरआन स्पष्ट रूप से कहता है कि वे जीवित हैं।

अधिक पढ़ें

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-10

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-10 ईश्वर के अतिरिक्त किसी और से शिफ़ाअत की मांग करना वास्तव में ईश्वर के अलावा किसी और से अपनी मांगें मांगना है।

अधिक पढ़ें

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-9

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-9  उनका मानना है कि शिफ़ाअत का अधिकार केवल ईश्वर को है और उसके अतिरिक्त किसी को भी इस प्रकार का अधिकार प्राप्त नहीं है।

अधिक पढ़ें

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-8

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-8 वहाबी पंथ के संस्थापक मुहम्मद बिन अब्दुल वह्हाब ने अपनी पुस्तक कश्फ़ुश्शुबहात में अनेकेश्वरवाद की चर्चा में दावा किया है कि शेफ़ाअत और तवस्सुल अर्थात किसी को मध्यस्थ बनाना अनेकेश्वरवाद का भाग है और इसीलिए वे बहुत से मुसलमानों को अनेकेश्वरवादी कहते हैं।

अधिक पढ़ें

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-7

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-7 इब्ने तैमिया द्वारा इस मूल्यवान हदीस का यह अर्थ निकालने से पता चलता है कि वह और उसके अनुयाई वहाबी ईश्वर को मनुष्यों के समान समझते हैं, इस लिए कि दौड़ना शरीर से विशेष है और शरीर की विशेषताओं में से है।

अधिक पढ़ें

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-6

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-6 इब्ने तैमिया और उसका शिष्य इब्ने क़ैय्यिम जौज़ी इन सब बातों से भी आगे बढ़ गये और उन्होंने अपनी पुस्तकों में ईश्वर को एक नरेश की भांति बताया।

अधिक पढ़ें

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-4

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-4 ब्रह्मांड की समस्त वस्तुएं केवल ईश्वर की इच्छा और अनुमति से ही प्रभाव स्वीकार करती हैं। क़ुरआने मजीद ने अपनी रोचक शैली में बड़े ही सुंदर ढंग से इस बात को बयान किया है।

अधिक पढ़ें

आपका कमेंन्टस

यूज़र कमेंन्टस

कमेन्ट्स नही है
*
*

अलहसनैन इस्लामी नेटवर्क