अलहसनैन इस्लामी नेटवर्क

मासूमीन की हदीसे

हज़रत रसूले अकरम के इरशाद

हज़रत रसूले अकरम के इरशाद

अगर तुम से कोई गुनाह सरज़द हो जाए तो उसके बाद नेक काम फ़ौरन करो ताकि (शायद) कुछ तलाफ़ी हो जाये।

अधिक पढ़ें

जीवन में प्रगति के लिए इमाम सादिक (अ) की नसीहतें

जीवन में प्रगति के लिए इमाम सादिक (अ) की नसीहतें इमाम सादिक़ (अ) के ज़माने के लोग इमाम (अ) के ज्ञानात्मक और आध्यात्मिक स्थान से भलीभांति परिचित थे इसलिए जब भी उन्हें मुलाक़ात का सौभाग्य प्राप्त होता था तो आपसे नसीहत व उपदेश देने की मांग करते थे। इस्लाम के क़ीमती इल्मी खजानों से एक ख़ज़ाना इमाम सादिक़ (अ) की यही नसीहतें हैं जो आपने समय समय पर की हैं।

अधिक पढ़ें

हज़रत इमाम मेहदी (अ.स.) के इरशाद

हज़रत इमाम मेहदी (अ.स.)  के इरशाद मेरा वुजूद (अस्तित्व) ग़ैबत में भी लोगों के लिए ऐसा ही मुफ़ीद (लाभकारी) है जैसे आफ़ताब (सूर्य) बादलों के ओट (पीछे) से।  

अधिक पढ़ें

हज़रत इमाम ज़ैनुल आबेदीन (अ.स.) के इरशाद

हज़रत इमाम ज़ैनुल आबेदीन (अ.स.) के इरशाद मुस्कर (नशे वाली चीज़ें) चीज़ों से परहेज़ करो क्योंकि यह तमाम बुराईयों की कुंजी है।

अधिक पढ़ें

हज़रत अली अलैहिस्सलाम की अहादीस

हज़रत अली अलैहिस्सलाम की अहादीस जो संयम की सवारी पर बैठ जाता है सफलता के मैदान की ओर अग्रसर हो जाता है।

अधिक पढ़ें

हज़रत फातेमा मासूमा (अ.स) की हदीसे

हज़रत फातेमा मासूमा (अ.स) की हदीसे हज़रत फातेमा मासूमा (अ.स) हज़रत इमाम सादिक़ (अ.स) की बेटीयो (फातेमा, ज़ैनब और उम्मेकुलसूम) से नकल करती है और इस हदीस की सनद का सिलसिला हज़रत ज़हरा (स.अ) पर खत्म होता हैः

अधिक पढ़ें

अनमोल वचन

अनमोल वचन पीड़ित (मज़लूम) की बददुआ से डरो कि उसकी बददुआ आग की तरह आसमान में जाती

अधिक पढ़ें

इमाम सादिक अलैहिस्सलाम की हदीसे

इमाम सादिक अलैहिस्सलाम की हदीसे ''मोमिन का शरफ नमाज़े शब और उसकी इज़्ज़त लोगो का तहफ्फुज़ (हिफाज़त) करना है।

अधिक पढ़ें

ज़बान रिवायात के आईने मे

ज़बान रिवायात के आईने मे

अधिक पढ़ें

नमाज़ रिवायात के आईने मे

नमाज़ रिवायात के आईने मे

अधिक पढ़ें

हज़रत इमाम मोहम्मद तक़ी (अ.स.) के इरशाद

हज़रत इमाम मोहम्मद तक़ी (अ.स.)  के इरशाद जो शख़्स इस हाल में सुबह करे कि किसी पर ज़ुल्म का ख़्याल भी दिल में न लाये ख़ुदा उसके गुनाहों को दरगुज़र करेगा।

अधिक पढ़ें

हज़रत इमाम हसन असकरी (अ.स.) के इरशाद

हज़रत इमाम हसन असकरी (अ.स.)  के इरशाद जब किसी काम का इरादा करो उसके नताएज (नतीजे का बहु वचन) को सोच लो अगर अच्छा है तो इक़दाम (क़दम बढ़ाओ) करो वरना इज्तेनाब (बचो) करो।

अधिक पढ़ें

हज़रत इमामे जाफ़रे सादिक़ (अ.स.) के इरशाद

हज़रत इमामे जाफ़रे सादिक़ (अ.स.) के इरशाद जिन कामों के लिये बाद में माज़ेरत करना पड़े उनसे परहेज़ (बचो) करो।

अधिक पढ़ें

हज़रत अमीरूल मोमेनीन अलैहिस्सलाम के इरशाद

हज़रत अमीरूल मोमेनीन अलैहिस्सलाम के इरशाद अमानत (धरोहर) की  हिफ़ाज़त (रक्षा) में तसाहुली (काहिली) न करो। अमानत में ख़यानत फ़क़्र और तहीदस्ती (ग़रीबी) का बायस (कारण) है।

अधिक पढ़ें

हज़रत इमामे हसन (अ.स.) के इरशाद

हज़रत इमामे हसन (अ.स.) के इरशाद

अधिक पढ़ें

हज़रते इमाम मोहम्मद बाक़िर (अ.स.) के इरशाद

हज़रते इमाम मोहम्मद बाक़िर (अ.स.) के इरशाद खाने से पहले हाथ धोने से फ़ख़्र (निर्धनता) कम होता है और खाने के बाद हाथ धोने से ग़ुस्सा (क्रोध) ।

अधिक पढ़ें

हज़रत इमाम हुसैन (अ.स.) के इरशाद

हज़रत इमाम हुसैन (अ.स.) के इरशाद किसी नेक काम को ख़ुदनुमाई (दिखलाना) के लिये अन्जाम मत दो और किसी नेक काम को ख़ेजालत (शर्मिन्दगी) की बिना पर तर्क न करो।  

अधिक पढ़ें

40 खूबसूरत हदीसे

40 खूबसूरत हदीसे

अधिक पढ़ें

हज़रत इमाम मूसा काज़िम (अ.स.) के इरशाद

हज़रत इमाम मूसा काज़िम (अ.स.) के इरशाद ग़ाफ़िल तरीन (बेपरवाह) शख़्स वह है जो ज़माने (समय) की गर्दिश और हादसात से इबरत हासिल न करे।

अधिक पढ़ें

आपका कमेंन्टस

यूज़र कमेंन्टस

कमेन्ट्स नही है
*
*

अलहसनैन इस्लामी नेटवर्क