अलहसनैन इस्लामी नेटवर्क

अख़लाकी लेख

गुद मैथुन इस्लाम की निगाह मे

 गुद मैथुन इस्लाम की निगाह मे

“ जब किसी क़ौम में गुद मैथुन की ज़्यादती हो जाती है तो खुदा उस क़ौम से अपना हाथ उठा लेता है और उसे इसकी परवाह (ख्याल) नही होती कि यह क़ौम किसी जंगल में हल़ाक कर दी ..

अधिक पढ़ें

हस्त मैथुन जवानी के लिऐ खतरा

 हस्त मैथुन जवानी के लिऐ खतरा वह मज़ा जिससे शर्मिन्दगी (लज्जा) मिले। वह सेक्स और इच्छा जिससे दर्द में बढोतरी हो , उसमे कोई अच्छोई नही है ..

अधिक पढ़ें

झूठ क्यों नहीं बोलना चाहिए

झूठ क्यों नहीं बोलना चाहिए सबसे पहले ज़रूरी है कि इस ख़तरनाक बीमारी में फंसे लोगों को इसके ख़तरनाक रूहानी, दुनियावी और इंडिविजुअल व समाजी नुक़सानों और असर के बारे में बताया जाए।  

अधिक पढ़ें

इस्लाम-धर्म में शिष्टाचार

इस्लाम-धर्म में शिष्टाचार शिष्टाचार व फज़ाएल मुसल्मानों के लिए ज़ीनत बख़्श है।

अधिक पढ़ें

तक़वा

तक़वा

अधिक पढ़ें

अपनी परेशानी लोगों से न कहो

अपनी परेशानी लोगों से न कहो  मुझ पर इतना कर्ज़ है और मैं नहीं जानता की किस तरह अदा करूँ, ख़र्च है मगर आमदनी का कोई वसीला नहीं। मजबूर हो चुका हूँ क्या करूं कुछ समझ मे नहीं आता, मैं हर ख़ुले हुए दरवाज़े पर गया मगर मेरे जाते ही वो दरवाज़ा बन्द हो गया।

अधिक पढ़ें

ख़ड़ा डिनर है ग़रीबुद्दयार खाते हैं

ख़ड़ा डिनर है ग़रीबुद्दयार खाते हैं बचपन में बारहा देखा है कि अगर फ़क़ीर दरवाज़े पर आजाता तो खाने का सवाल करना न भूलता और घर वाले भी फ़राख़ दिली से फ़क़ीर के लिए खाना भेज देते, वह बेचारा इतना भूका होता कि दिया हुआ खाना खड़े खड़े ही चट कर जाता,  उधर तो उसकी भूक और दूसरी जानिब यह बेबसी कि एक हाथ पर खाने की पलेट रख कर दूसरे हाथ से रोटी तोड़ कर लुक़मा बनाना और उसको मुँह तक लेजाना दुश्वार मरहला होता था,  यह सब बातें हमारे लिए हैरत का सबब बन जातीं जिस में रहम भी पाया जाता, उस बेचारे की यह हालत देखी ना जाती।

अधिक पढ़ें

जवानी के बारे में सवाल

जवानी के बारे में सवाल

अधिक पढ़ें

धार्मिक प्रवचनों को केवल कहानियों की तरह न सुने

धार्मिक प्रवचनों को केवल कहानियों की तरह न सुने यही कारण है की हम दोस्तों के बीच बैठ के ,ईमानदारी, सत्यवचन, संस्कारों की बात कर के भगवान के अवतारों, पैगम्बरों के किस्से बयान कर के खुद को बड़ा धार्मिक तो साबित करते हैं

अधिक पढ़ें

हसद

हसद इस्लामिक शिक्षाओं में हसद के एलाज के क्या रास्ते दर्शाए गए हैं? इसके जवाब में कहा जा सकता है कि इस्लाम ने हसद के एलाज के लिए विभिन्न रास्ते सुझाए हैं।

अधिक पढ़ें

इस्लाम शान्ति पसन्द है

इस्लाम शान्ति पसन्द है हलाले मुहम्मदी हलाल है क़्यामत तक और हरामें मुहम्मदी हराम है क़्यामत तक

अधिक पढ़ें

सुशीलता

सुशीलता एकेश्वरवादी दृष्टिकोण कारण बनता है कि दूसरों के प्रति हम जो बैर रखते हैं उसे भुला दें,

अधिक पढ़ें

सिलये रहम

सिलये रहम धार्मिक बंधुओं से भेंट करना वह चीज़ है जिसकी इस्लाम में बहुत अनुशंसा की गयी है। क्योंकि एक दूसरे के मिलने से मनमोटाव समाप्त हो जाता है, हृदय प्रफुल्लित हो जाता है

अधिक पढ़ें

सलाह व मशवरा

सलाह  व मशवरा इस राब्ते की वजह से मुसलमानों के आपसी ताल्लुक़ात बढ़ने चाहिए। यानी मुसलमानों तमाम रिश्तों को छोड़ते हुए भी सलाह मशवरे की बुनियाद पर एक दूसरे से राब्ता रखने और अपने ताल्लुक़ात बढ़ाने पर मजबूर हैं।

अधिक पढ़ें

सम्मोहन एवं बुद्धिमत्ता

सम्मोहन एवं बुद्धिमत्ता एक लड़का था जिसे यह नहीं ज्ञात था कि चोरी किसे कहते हैं। उसे तला हुआ अंडा या अंडायुक्त भोजन बहुत पसंद था। एक दिन जब उसे तला अंडा खाने की बहुत अधिक इच्छा हुई

अधिक पढ़ें

मानव की आत्मा की स्फूर्ति के लिए आध्यात्म एक मूलभूत आवश्यकता है

मानव की आत्मा की स्फूर्ति के लिए आध्यात्म एक मूलभूत आवश्यकता है रोज़े का एक रोचक उपहार मन की शांति है। मन की यह शांति ऐसा बहुमूल्य अमृत है

अधिक पढ़ें

भोर में उठने से आत्मा को आनन्द एवं शान्ति प्राप्त होती है

भोर में उठने से आत्मा को आनन्द एवं शान्ति प्राप्त होती है इस्लाम के बड़े-बड़े महापुरूषों तथा विद्धानों के जीवन पर यदि एक दृष्टि डाली जाए तो हमें ज्ञात होगा कि वे सब ही भोर समय उठा करते थे

अधिक पढ़ें

बदकारी

बदकारी जो लोग इस बातो को दोस्त रखते हैं कि ईमान वालों के दरमियान बदकारी और बे हयाई फ़ैलाएँ तो उन के लिये दर्दनाक अज़ाब (सज़ा) है।

अधिक पढ़ें

बच्चों के साथ रसूले ख़ुदा (स.) का बर्ताव

बच्चों के साथ रसूले ख़ुदा (स.) का बर्ताव माँ-बाप का फ़रीज़ा जहाँ अपने बच्चों की अच्छी परवरिश करना है वहीं उनके साथ खेलना और उन को ख़ुश रखना भी है।  

अधिक पढ़ें

पेंशन

पेंशन हुकूमत व समाज की यह ज़िम्मेदारी है कि जब तक यह ज़िन्दा रहे इसकी ज़रूरियात को पूरा करें और इसको बैतुलमाल से मुस्तकिल कुछ रक़्म दिया करें।

अधिक पढ़ें

आपका कमेंन्टस

यूज़र कमेंन्टस

अतिक:आहमाद
2020-01-15 22:13:54
Mashaallah bahut hi accha hadis
अतिक:आहमाद
2020-01-15 22:13:31
Mashaallah
*
*

अलहसनैन इस्लामी नेटवर्क