अलहसनैन इस्लामी नेटवर्क

जमाअत मे नमाज़ी का फरीज़ा

जमाअत मे नमाज़ी का फरीज़ा

एल्बम: अहकाम (इबादात)

इस प्रोग्राम मे सबसे पहले बताया गया है कि एहतियाते मुस्तहब यह है कि इमाम की तकबीरतुल अहराम तमाम होने से पहले नमाज़ी को तकबीर नही कहनी चाहिऐ और फिर मौलाना साहब ने सजदे और रूकुअ के जिक्र को इमामे जमाअत से पढ़ने हुक्म को बयान किया।


डाउनलोड (14.84 MB)
अवधि: 00:16:11
विज़िट्स: 568
डाउनलोड: 188

आपका कमेंन्टस

यूज़र कमेंन्टस

कमेन्ट्स नही है
*
*

अलहसनैन इस्लामी नेटवर्क